Competition Community
IT Help: 9993555585, Other Inquiry: 7747901111

राष्ट्रीय भारत परिवर्तन संस्था

राष्ट्रीय भारत परिवर्तन संस्था

admin आयोग

नीति आयोग
गठन – 1 जनवरी 2015
पूर्ववर्ती – योजना आयोग

संरचना

  • अध्यक्ष – प्रधानमंत्री
  • उपाध्यक्ष – प्रधानमंत्री द्वारा नियुक्त
  • CEO – भारत सरकार का सचिव जिसे प्रधानमंत्री द्वारा एक निश्चित कार्यकाल के लिए नियुक्त किया जाता है।
  • पूर्णकालिक सदस्य – 4
  • पदेन सदस्य – 4 केन्द्रिय मंत्री परिषद के सदस्य
  • संचालन परिषद – सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और केन्द्र – शासित प्रदेशों के उपराज्यपाल
  • विशेष आमंत्रित – प्रधानमंत्री द्वारा नामित विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ।

कार्य-
1.नीति निर्माण और कार्यक्रम की रूपरेखा।
2.सहकारी संघवाद को बढ़ावा देना।
3.मॉनीटरिंग और मूल्यांकन
4.थिंक-टैक और ज्ञान और नवोन्मेष हब।

उद्देश्य-
1. राष्ट्रीय उद्देश्यों को दृष्टिगत रखते हुए राज्यों की सक्रिय भागीदारी के साथ राष्ट्रीय विकास प्राथमिकताओं, क्षेत्रों और रणनीतियों का एक साझा दृष्टिकोण विकसित करना।
2. रणनीतिक और दीर्घावधि के लिए नीति तथा कार्यक्रम का ढाँचा तैयार करना।
3. सहकारी संघवादी को बढ़ावा
4. बॉटम अप एप्रोच अपनाना, ग्राम स्तर पर व्यावहारिक योजना बनाने में सहयोग एवं योजनाओं के उत्तरोत्तर विकास में मदद करना।
5. सरकार के थिंक टैक ज्ञान एवं नवोन्मेष के हल के रूप में कार्य करना।

नीति आयोग के मार्गदर्शक सिद्धांत-
1. अंत्योदय
2. समावेशिता
3. ग्रामता
4. जनसंख्यात्मक लाभांश
5. जन-सहभागिता
6. अभिशासन
7. सततता।

राष्ट्रीय भारत परिवर्तन संस्था-
• निर्माण – 1 जनवरी, 2015
• पूर्ववर्ती – योजना आयोग
• अधिकार क्षेत्र – भारत सरकार
• मुख्‍यालय – नई द‍िल्‍ली
• अध्‍ययक्ष – प्रधानमंत्री
• उपाध्‍यक्ष – प्रधानमंत्री द्वारा नियुक्‍त

योजना आयोग एवं नीति आयोग में अंतर

S No. योजना आयोग नीति आयोग
1. इस आयोग की प्रकृति विकेन्द्रीकृत इसमें नीति निर्माण एवं क्रियान्वयन में केन्द्र सरकार की प्रमुख भूमिका थी। इस आयोग की प्रकृति विकेन्‍द्रीकृत इसमें नीति निर्माण एवं क्रियान्‍वयन में केन्‍द्र व राज्‍य सरकारों की विशेष भूमिका है।
2. नियोजन उद्देश्य से 05 वर्षीय योजनाओं का निर्माण एवं क्रियान्‍वयन सुनिश्चित करना। नियोजन उद्देश्यों से 15 वर्षीय विजन 07 वर्षों के लिए रणनीति एवं 03 वर्षों हेतु एक्शन एजेंडा का निर्माण करना।
3. मूलत: केन्द्र सरकार की संख्या जिसमें राज्यों का प्रतिनिधित्व सीमित था। सहकारी संघवाद (Cooperative Federalism) में केन्द्र व राज्‍यों के बीच स्‍वायत्त साझेदारी स्‍थापित करना।
4. ऊपर से नीचे की ओर दृष्टिकोण (Top-Down Approach) से योजनाओं को केंद्रीय आकार में समाहित करना। नीचे से ऊपर की ओर दृष्टिकोण (Bottam-Up Approach) से योजनाओं को विकेंद्रीकृत आकार में समाहित करना।
5. योजनाओं हेतु मंत्रालयों व राज्य सरकारों को कोषों के आवंटन की शक्ति योजना योग को थी। योजनाओं के लिए मंत्रालय व राज्य सरकारों को कोषों के आवंटन की शक्ति वित्त मंत्रालय में निहित है।
6. नीति-निर्माण विश्वविद्यालयों व शोध संस्थानों के प्रतिनिधिशामिल नहीं थे। यह एक सलाहकारी निकाय (Think Tank) है। नीति- निर्माण में विश्वविद्यालयों व शोध संस्थानों के विशेषज्ञों को शामिल किया गया है।

You May Also Like..

राष्‍ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग

राष्‍ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग

गठन 14 अगस्‍त 1993 राष्‍ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग अधिनियम 1993 द्वारा 102 वॉं संवैधानिक संशोधन अधिनियम 2018 द्वारा संवैधानिक दर्जा […]

राष्‍ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग

राष्‍ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग

संवैधानिक प्रावधान 65वॉं संविधान संशोधन अधिनियम 1990 राष्‍ट्रीय अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग 89वॉं संविधान संशोधन 2003 अनु. 338 (क) […]

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC)

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC)

स्थापना – • 1 अक्टूबर 1926 – ली आयोग की अनुशंसा पर। • वर्तमान स्वरूप- 26 जनवरी 1950 संवैधानिक प्रावधान […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *